मुक्तक

“याद मेरी , गुलशनों की , दास्ताँ बन जाएगी,
कोई इक डाली ही, मेरा आशियाँ बन जाएगी,
फ़ूल भी, सपने भी इसमें, आस भी, अहसास भी,
मेरी खुद की जिंदगी, मेरा जहाँ बन जाएगी “

Like Comment 0
Views 2

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share
Sahityapedia Publishing