मुक्तक

“धरती को जगमगाओ ,रौशन करो गगन को,
अपने लहू से सींचो ,इस प्यार के चमन को,
उनको निकाल फेंको , नफरतों जो बो रहे हैं,
सोने की चिड़िया कर दो फिर से इस वतन को “

Like Comment 0
Views 3

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share
Sahityapedia Publishing