मुक्तक

दर्द दिल में मगर लब पे मुस्कान है
हौसलों की हमारे ये पहचान है
लाख कोशिश करो आके जाती नहीं
याद इक बिन बुलाई सी मेहमान है

Like Comment 0
Views 1

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share
Sahityapedia Publishing