मुक्तक

ये दुनिया की रवायत है काग को बाज़ बतलाना ।

दान जर्रे सा करना और खुद को कर्ण बतलाना ।

मेरी सबसे गुज़ारिश है स्वार्थ के मोह से निकलो

राह कोई अगर पूछे उसे सही राह बतलाना ।

Like Comment 0
Views 1

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share
Sahityapedia Publishing