मुक्तक

” सफ़र में मुश्किलें आएं तो जुर्रत और बढ़ती है,
रास्ता कोई जब रोके तो हिम्मत और बढ़ती है,
अगर बिकने पे आ जाओ तो लग जाती भले कीमत
न बिकने का इरादा हो तो इज्जत और बढ़ती है “

Like Comment 0
Views 1

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share
Sahityapedia Publishing