मुक्तक

जीना है तो जी लें पुष्प बनकर
शूल चुभता है जिसको निरंतर,
तोड़ती दुनियाँ जिसे फिर भी सदा
रहता वो गले का हार बनकर

Like Comment 0
Views 1

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share
Sahityapedia Publishing