.
Skip to content

मुक्तक स्व- भावानुवादित

Dr. umesh chandra srivastava

Dr. umesh chandra srivastava

मुक्तक

July 10, 2017

. …. मुक्तक ….

उर- उदधि- उर्मि लहराती
किस ओर बहा ले जाती ?
फिर कौन प्राण प्रिय बनकर ?
किस छोर कहाँ ले आती ?

स्व- भावानुवादित

Wave of Sea has rippling in heart .
Carry away , in which skirt ?
Then who become sweetheart ?
Whither edging as expert .

डा. उमेश चन्द्र श्रीवास्तव
लखनऊ

Author
Dr. umesh chandra srivastava
Doctor (Physician) ; Hindi & English POET , live in Lucknow U.P.India
Recommended Posts
अश्रुनाद स्व- भावानुवादित
. .... मुक्तक .... उर उदधि उर्मि लहराती किस ओर बहा ले जाती ? फिर कौन प्राण प्रिय बनकर किस छोर कहाँ ले आती ?... Read more
अश्रुनाद स्व- भावानुवादित
. .... मुक्तक .... अविरल कलियों का आना आकर उनका मुरझाना नव रंग मंच में रञ्जित जीवन अभिनय कर जाना स्व- भावानुवादित Ever flowering uninterrupted... Read more
अश्रुनाद स्व- भावानुवादित
. .... मुक्तक ... सुस्मृति हिय में लहरायी तब सघन वेदना छायी आँसू बनकर नभ बदली फिर आज दृगों में आयी स्व- भावानुवादित When sweet... Read more
अश्रुनाद स्व- भावानुवादित
. .... मुक्तक .... जब श्याम घटा घिर आये प्रमुदित मन रुन झुन गाये जीवन रँग रञ्जित सुधियाँ रिमझिम फुहार बन जाये स्व- भावानुवादित When... Read more