.
Skip to content

मुक्तक—विजय पर्व—डी के निवातिया

डी. के. निवातिया

डी. के. निवातिया

मुक्तक

October 11, 2016

*—-विजय पर्व —-*

पूजा, भक्ति, ज्ञान, ध्यान में था वो देवो का ख़ास ।
सुत, बंधू, सगे, सेवक सहित किया कुल का नाश ।
अधर्म और अहंकार सदैव अहितकारी होते है ।
इन द्वेषो ने किया रावण सहित लंका का विनाश ।।

मन से मैले हुए सभी, तन वस्त्र सब चमका दिये ।
झूठी परम्परा निभा, रावण के पुतले जला लिये ।
विषय वासना लोभ के अधीन हुआ जन मानष ।
उर विकार मिटे नही उत्सव विजय पर्व मना लिये ।।




डी के निवातियाँ —-+

Author
डी. के. निवातिया
नाम: डी. के. निवातिया पिता का नाम : श्री जयप्रकाश जन्म स्थान : मेरठ , उत्तर प्रदेश (भारत) शिक्षा: एम. ए., बी.एड. रूचि :- लेखन एव पाठन कार्य समस्त कवियों, लेखको एवं पाठको के द्वारा प्राप्त टिप्पणी एव सुझावों का... Read more
Recommended Posts
विजय का पर्व है पावन, हमे मिल कर मनाना है
विजय का पर्व है पावन, हमे मिल कर मनाना है, असूरता पर विजय श्री राम की है ये बताना है, मगर ये पर्व होगा तब... Read more
मेरे सपनो का विजय पर्व
"किस जीत कि हम बात करे और कौन सा विजय मिल पाया है ना तो बुराई मिटी है यहा अभी और ना सच जिन्दा रह... Read more
विजय पर्व पर कीजिए, पापों का संहार
जगत जननी जगदम्बिका, सर्वशक्ति स्वरूप। दयामयी दुःखनाशिनी, नव दुर्गा नौ रूप।। शक्ति पर्व नवरात्र में, शुभता का संचार। भक्तिपूर्ण माहौल से, होते शुद्ध विचार ।।... Read more
विजय दशमी पर्व
विजय दशमी पर्व ज्योति पुंज का भव्य पर्व ये , सर्वत्र ज्योतिर्मय होय । अहंकार का मर्दन करने , सौम्य रूप जब होय । जले... Read more