मुक्तक :-- माँ सपनों में आ जाती है !!

मुक्तक :– माँ सपनों में आ जाती है !!

व्याकुलता तेरे चिंतन की जब मुझको तड़पाती है !
पल में उदास हो जाता हूँ मैं बेचैनी बढ़ जाती है !
सहलाती सिर को मेरे अपनें ममतामयी हाथों से ;
“माँ” पल्लू से तू हवा लगाती सपनों में आ जाती है !!

Like Comment 8
Views 474

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share