Jul 28, 2016 · मुक्तक
Reading time: 1 minute

***** मुक्तक : फाँसी दो *****

***** मुक्तक : फाँसी दो *****
जो पाकिस्तान से हमदर्दी रखते ,,,,,उनको तो बस फाँसी दो,
जो पाकिस्तान का झंड़ा लहराते ,,,, उनको भी बस फाँसी दो,
जो देश द्रोही उत्पात मचाते हैं ,,,,,,,,,,उनसे क्यूँ हमदर्दी ,
आतँकी जो मानवता को रोंदे ,,,,,, उनको तो बस फाँसी दो,
******* सुरेशपाल वर्मा जसाला

19 Views
Copy link to share
Sureshpal Jasala
Sureshpal Jasala
18 Posts · 7.8k Views
Follow 2 Followers
I am a teacher, poet n writer, published 8 books , started a new Hindi... View full profile
You may also like: