गज़ल :-- नासूर यूँ चुभते रहे ॥

गज़ल :– नासूर यूँ चुभते रहे ॥

नासूर यूँ चुभते रहे ।
क्यों बेवजह झुकते रहे ॥

लुटती रही है चाँदनी,
हम चाँद को तकते रहे ॥

खिलते रहे गुल बाग में ,
हम जाम से खुलते रहे ॥

छिपते रहे वो चाँद से ,
हम रात से ढलते रहे ॥

अनुज तिवारी “इंदवार”

Like 1 Comment 0
Views 195

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share
Sahityapedia Publishing