मुक्तक · Reading time: 1 minute

अश्रु आंखो में छलके सदा सर्वदा

मुक्तक

देखते आ रहे दृश्य ये सर्वदा ,
अश्रु आँखों में छलके सदा सर्वदा ।
बाढ़ लीला मचाये भयंकर प्रलय ,
स्वप्न हैं टूटते झेलकर आपदा ।

रेवड़ी बाटते हो हमें नोच कर ।
राज पर राज हो फ़ेस ये चेंज कर ।
गरजते बरसते बादलों की तरह ,
चेतना जागती क्रोध ये देख कर ।

“डा प्रवीण कुमार श्रीवास्तव”
सीतापुर

74 Views
Like
You may also like:
Loading...