.
Skip to content

मुक्तक -जयश्रीकृष्ण

Sajoo Chaturvedi

Sajoo Chaturvedi

मुक्तक

July 20, 2017

तेरी छोटी पयियाँ
तेरी चूमती हथियाँ
तू धरती चूमें
तेरी पकड़ती बयियाँ
तेरी छोटी मोती दतियाँ
तेरी बजती पयजनियाँ
तू कठुला मुखडाले
तेरी साँवरी सुरतिया
तुझे काला टीका लगाऊँ
जगकी नजरों सै बचाऊँ
तू छुपके माटी खाये
का्न्हा नखाये बुलाऊँ
सज्जो चतुर्वेदी********

Author
Recommended Posts
मुक्तक
तेरी तस्वीर को सीने से लगा रखा है! तेरी चाहतों को पलकों में सजा रखा है! रोकना मुमकिन नहीं है तेरी आरजू को, तेरी तमन्ना... Read more
मुक्तक
तेरी तस्वीर को सीने से लगा रखा है! तेरी चाहतों को पलकों में सजा रखा है! रोकना मुमकिन नहीं है तेरी आरजू को, तेरी तमन्ना... Read more
मुक्तक
मेरा सकून तेरी मुलाकातों में है! तेरी तमन्ना दिल के जज्बातों में है! हरवक्त खींच लेती है तेरी जुस्तजू, तेरी यादों की खूशबू रातों में... Read more
मुक्तक
तेरी यादों की तन्हाई से डर जाता हूँ! तेरी चाहत की परछाई से डर जाता हूँ! टूट गये हैं ख्वाब सभी तेरी रुसवाई से, तेरी... Read more