Mar 27, 2017 · मुक्तक
Reading time: 1 minute

मुक्तक :– चूड़ियां ।।

मुक्तक :– चूड़ियां ॥

हरी या लाल पहनों तुम हमें हर रंग प्यारा है ।
भरे जौवन में तो इनका दहकता अंग प्यारा है ।
कभी ये रूठ जाती हैं कभी ये खिलखिलाती हैं ,
तुम्हारी चूड़ियों के बोलने का ढंग प्यारा है ।।

अनुज तिवारी “इंदवार”
स्वरचित

1 Like · 177 Views
Copy link to share
Anuj Tiwari
Anuj Tiwari
118 Posts · 53.6k Views
Follow 9 Followers
नाम - अनुज तिवारी "इन्दवार" पता - इंदवार , उमरिया : मध्य-प्रदेश लेखन--- ग़ज़ल ,... View full profile
You may also like: