.
Skip to content

मुक्तक :– चाहतें महफिल में भी मुस्कान की प्यासी रही !!

Anuj Tiwari

Anuj Tiwari "इन्दवार"

मुक्तक

July 4, 2016

मुक्तक :– चाहतें महफिल में भी मुस्कान की प्यासी रही !!

चाहतें महफिल में भी मुस्कान की प्यासी रही !
साँस ! मेरी हर पहर अहसान की प्यासी रही !
प्यार से जिसको नवाजा उम्र भर एक आस में ,
वो तो हमदम हमनसी शमशान की प्यासी रही !!

अनुज तिवारी “इन्दवार”

Author
Anuj Tiwari
नाम - अनुज तिवारी "इन्दवार" पता - इंदवार , उमरिया : मध्य-प्रदेश लेखन--- ग़ज़ल , गीत ,नवगीत ,कविता , हाइकु ,कव्वाली , तेवारी आदि चेतना मध्य-प्रदेश द्वारा चेतना सम्मान (20 फरवरी 2016) शिक्षण -- मेकेनिकल इन्जीनियरिंग व्यवसाय -- नौकरी प्रकाशित... Read more
Recommended Posts
मुक्तक
तेरे बिना छायी हुई हरतरफ उदासी है! तेरे बिना अब भी मेरी जिन्दगी प्यासी है! उम्र थक रही है मेरी मंजिल की तलाश में, तेरे... Read more
मुक्तक :-- जिंदा लाश से लिपटी रही !!
मुक्तक :-- जिंदा लाश से लिपटी रही !! आज मेरी साँस तेरी साँस से लिपटी रही ! और पलकें एक हसीं अहसास से लिपटी रही... Read more
लाश आशिक़ की उठाई जा रही हैं
पालकी दुल्हन कि लाई जा रही हैं लाश आशिक़ की उठाई जा रही हैं हुस्न की महफ़िल सजाई जा रही हैं आज फिर क़ीमत लगाई... Read more
मुक्तक
शाम की तन्हाई में खामोशी आ रही है! ख्वाबों और ख्यालों की सरगोशी आ रही है! मुमकिन नहीं है रोकना यादों के कदमों को, दिल... Read more