.
Skip to content

मुक्तक–घरौंदा

Sajoo Chaturvedi

Sajoo Chaturvedi

मुक्तक

July 12, 2017

रेत का घरौंदा
सागर का किनारा
प्यार से बनाया
भूलक्कड़ मस्तिष्क
हाथ रखा टूट गया
सज्जो चतुर्वेदी*****

Author
Recommended Posts
अश्रुनाद स्व- भावानुवादित
. .... मुक्तक .... भँवरित जन्मों का डेरा यह प्राण पथिक है तेरा तुम सहगामी बन जाओ यह दिशाहीन पथ मेरा स्व- भावानुवादित Verticillated births... Read more
मुक्तक
वक्त हँसाता है वक्त रुलाता है। जो वक्त गँवा दे वो पछताता है।।
मुक्तक स्व- भावानुवादित
. .... मुक्तक .... उर- उदधि- उर्मि लहराती किस ओर बहा ले जाती ? फिर कौन प्राण प्रिय बनकर ? किस छोर कहाँ ले आती... Read more