Jul 12, 2016 · मुक्तक
Reading time: 1 minute

मुक्तक :– ग़म का साझेदार बना मुझे …….!!

मुक्तक :– ग़म का साझेदार बना मुझे ……!!

सात जन्म की पट्टेदारी संग तेरे सौ वार लूँ !
गम का साझेदार बना मुझे हर गम मै संघार लूँ !
गर काल तुझे लेने आये मौत खड़ी हो द्वार पे ,
सीना अड़ा के सामने मौत को स्वीकार लूँ !!

1 Like · 2 Comments · 173 Views
Copy link to share
Anuj Tiwari
118 Posts · 56.3k Views
Follow 11 Followers
नाम - अनुज तिवारी "इन्दवार" पता - इंदवार , उमरिया : मध्य-प्रदेश लेखन--- ग़ज़ल ,... View full profile
You may also like: