Nov 9, 2020 · मुक्तक
Reading time: 1 minute

मुक्तक- खूब की है पढ़ाई

मुक्तक- खूब की है पढ़ाई मज़ा आ गया
■■ ■■ ■■ ■■ ■■ ■■ ■■ ■■
खूब की है पढ़ाई मज़ा आ गया,
कोट है और टाई मज़ा आ गया,
एक ठेला लिए सैर करता हूँ मैं,
बेचता हूँ मिठाई मज़ा आ गया।

– आकाश महेशपुरी
दिनांक- 08/11/2020

3 Likes · 201 Views
आकाश महेशपुरी
आकाश महेशपुरी
243 Posts · 47.7k Views
Follow 39 Followers
संक्षिप्त परिचय : नाम- आकाश महेशपुरी (कवि, लेखक) मूल नाम- वकील कुशवाहा जन्मतिथि- 15 अगस्त... View full profile
You may also like: