मुक्तक :-- ज्यामिति विद इंसानियत

मुक्तक :– ज्यामिति विथ इंसानियत

अधिककोण जैसे अकड़ोगे तो उल्टा गिर जाओगे !
न्यूनकोण से झुकने में आखिर कब तक शर्मओगे !
उल्टा-सीधा होने पर समकोण समझ में आयेगा ,
दृष्टिकोण से नज़र हटी तो जीवन भर पछताओगे !!

एक बिंदु में स्थिर हो कर जब तुम ध्यान लगाओगे !
मंजिल के रस्ते अक्सर सीधी रेखा में पाओगे !
त्रिकोण नहीँ चौकोण नहीँ जो कोने तक ही सीमित हो ,
बनना है तो वृत्त बनो तुम हरदम पूजे जाओगे !!

अनुज तिवारी “इन्दवार”

Like Comment 0
Views 905

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share
Sahityapedia Publishing