.
Skip to content

मुक्तक– काश्मीर

Sajoo Chaturvedi

Sajoo Chaturvedi

कविता

July 13, 2017

धरा से आतंकियो को मिटा दो।
अहिंसा की ज्योति को जगा दो।
तीर्थयात्री जयकारा लगाते चलें,
त्रिलोकनगरी फूलों से खिला दो।
सज्जो चतुर्वेदी******काश्मीर

Author
Recommended Posts
*****
***** काश्मीर की कली की घाटी ***** अलगाववादियों के सँग में, जो आतँकी नृतन करती है, ''काश्मीर की कली'' की घाटी, अब देखो क्रन्दन करती... Read more
काश्मीर का प्रत्युत्तर
सारी रात और आधा दिन सोचने के बाद इस कविमन "विकल" ने काश्मीर का एक प्रत्युत्तर सोचा है साहब... अगर अच्छा लगे कि "अरविन्द" ने... Read more
है केवल काश्मीर नहीं, सिर मुकुट है भारत का वो...
है केवल काश्मीर नहीं, सिर मुकुट है भारत का वो... कोई टुकड़ा पुश्तेनी नहीं, अविभाज्य अंग है भारत का वो... पत्थर ईंटो से न पाटों... Read more
पत्थरबाजों  की  सेना
"पत्थरबाजों की सेना तुम , कान खोलकर सुन लो आज ! काश्मीर तो है भारत का , बात मान लो ये तुम आज ! भारत... Read more