मुक्तक :-- आज मेरे ख़त का जवाब आया है !!

मुक्तक :– आज मेरे ख़त का जवाब आया है !
मात्रा भार —
2122 2122 2122

आज मेरे ख़त का जवाब आया है !
महबूब का मुझे आदाब आया है !
बहारें खुशियों की जीवन में आई ,
लिफाफे को महकाता गुलाब आया है !!

अनुज तिवारी “इन्दवार”

Like Comment 0
Views 192

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share
Sahityapedia Publishing