मुक्तक :-- अदाकारी खरीदी जा नहीँ सकती ॥

मुक्तक :– अदाकारी खरीदी जा नहीँ सकती ॥

हकीकत है अदाकारी खरीदी जा नहीँ सकती ।
जो फैली दिल में हो अक्सर बिमारी जा नहीँ सकती ।
चढ़े जब ज्वर दिमाको में सलामत दिल नहीँ होते ;
वहां फ़िर प्यार की बातें उकेरी जा नहीँ सकती ॥

अनुज तिवारी “इन्दवार”

1 Comment · 175 Views
नाम - अनुज तिवारी "इन्दवार" पता - इंदवार , उमरिया : मध्य-प्रदेश लेखन--- ग़ज़ल ,...
You may also like: