मुकरियां

समय का पालन यह सिखाए
रोज सवेरे मुझे जगाए
हरदम उसकी जरूरत पड़ी
ऐ सखि साजन, नहीं सखि घड़ी

बाहर उजला भीतर रीठा
लगता है वह कितना मीठा
काम सभी बातों से लेता
ऐ सखि साजन, नहिं सखि नेता

सच्चाई का पाठ पढ़ाया
अंधकार को दूर भगाया
उसके दम से ऊंचा मस्तक
ऐ सखि साजन, नहिं सखि शिक्षक

सबकी नजर में बसी है रंगत
सिर चढ़कर बोले उसकी लत
खुले आंख तो याद वह आय
ऐ सखि साजन, नहीं सखि चाय

उर पर रखती असीमित भार
पूरा न हो उसका उपकार
जनम जनम का उससे नाता
ऐ सखि साजन, नहीं सखि माता

2 Likes · 2 Comments · 14 Views
फोन : 9411469055/ - जन्म स्थान : बादुल्लागंज, ज़िला बदायूं (उत्तर प्रदेश)। - शिक्षा: एमए,...
You may also like: