*मीरा*

मीरा थी इक प्रेम दीवानी
चाहत उसकी अजब नूरानी
अपनी सच्ची प्रीत के कारण
गाथा है वो एक सुहानी

*धर्मेन्द्र अरोड़ा*

18 Views
Copy link to share
*काव्य-माँ शारदेय का वरदान * Awards: विभिन्न मंचों द्वारा सम्मानित View full profile
You may also like: