मीठे मीठे आम

छज्जों पर आने लगे, पत्थर नित्य तमाम ।
शायद फिर से पक गए,..मीठे-मीठे आम ।।

बैठे थे जिस पर स्वयं, वही काट दी डाल ।
मंदबुद्धि की दूसरी, क्या दूँ और मिसाल ।।
रमेश शर्मा

Like 2 Comment 0
Views 26

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share