मिल जाये तो अच्छा है |

सफर में हमसफर का साथ, मिल जाये तो अच्छा है |
अगर इक हाथ में इक हाथ, मिल जाये तो अच्छा है |
जिसे जीते थे उनके इश्क में, काश वो फिर से ;
सुहाना दिन सुहानी रात, मिल जाये तो अच्छा है |

2 Comments · 52 Views
एक हिन्दी कवि एवं लेखक जो कविता, गीत, गजल, मुक्तक, दोहा, छंद रचनाकार श्रंगार रस...
You may also like: