23.7k Members 49.9k Posts

मिलन-सुख की गजल-जैसा तुम्हें फैसन ने ढाला है

आपकी जुल्फें चाँदी-सीं रंग उन पर अति काला है |
मिलन-सुख की गजल-जैसा तुम्हें फैसन ने ढाला है |

बुढापे की मस्त झुर्रीं, दे रहीं हैं आहट सँभलो |
इसलिए मेकप करवाया ,उजाला ही उजाला है |
मिलन-सुख की गजल-जैसा तुम्हें फैसन ने ढाला है |

तुम,अनुभव की शुभ ऑधी ,आपका दिल पूरणमासी
सदृश खिलते हुए पावन चंद्रमाओं की माला है |
मिलन-सुख की गजल-जैसा तुम्हें फैसन ने ढाला है |

बुढापे में जवानी का सुहावन अभिनय है जीवन |
मुस्कुराया-हँसा दिलवर, मिटा दिल का हर छाला है |
मिलन-सुख की गजल-जैसा तुम्हें फैसन ने ढाला है |

आपकी जुल्फें चाँदी-सीं रंग उन पर अति काला है |
मिलन-सुख की गजल-जैसा तुम्हें फैसन ने ढाला है |
……………………………………………………….

-उक्त गजल दिल्ली से प्रकाशित, ‘ हिंदी सागर पत्रिका ‘ वर्ष 02 अंक-01,माह जनवरी-मार्च 2018 में प्रकाशित है |

-उक्त गजल को मेरे फेसबुक पेज
पर भी पढा जा सकता है |

बृजेश कुमार नायक
Subhash nagar ,konch
Dist -Jalaun
UP-28525
(nr Kedarnath doorwar school)
What S aap -9956928367

1 Like · 210 Views
Pt Brajesh Kumar Nayak
Pt Brajesh Kumar Nayak
155 Posts · 40.2k Views
1) प्रकाशित कृतियाँ 1-जागा हिंदुस्तान चाहिए "काव्य संग्रह" 2-क्रौंच सु ऋषि आलोक "खण्ड काव्य" 3-...