Skip to content

-:मिलन की आहट:-

प्रकाश यादव निर्भीक

प्रकाश यादव निर्भीक

कविता

June 5, 2016

मेघा आज
सफ़ेद लिबास में
चाँद को लपेटकर
अभी अभी शाम को
अनंत अंबर में लेकर आई है
कितनी प्यारी लगती है
चारों तरफ से घिरे
काले बादलों के बीच
उनकी मोहक धवल छवि
मानो कोई प्रेयसी
सजधज कर आई हो
मिलन की आस में
एक लंबी विरह के बाद
मिलने अपने प्रियतम से
मनमुग्ध कर लेना
चाहती हो इसबार उसे
इस कदर कि
इस मिलन के बाद
फिर दुबारा कभी
बिछुड़न की टीस
न आये उनके जीवन में
सोलह शृंगार में सजी
बिखरे ज़ुल्फों को
आजाद कर उनकी अदाओं में
कजरारे आँखों में
एक अतृप्त प्यास लेकर
अपने अधरों पर
मधुर मुस्कान बिखेरते हुए
देख रही है अपलक उन राहों को
जिनसे होकर शायद अभी
मिलन की आहट
सुनाई देगी उनके कानों को
और समेट लेगी फिर
अपने गुलाबी पंखुड़ी आगोश में
अपने भँवरा को सदा के लिए
प्रकाश यादव “निर्भीक”
बड़ौदा – 03.06.2016

Share this:
Author
प्रकाश यादव निर्भीक
मुझे छंदमुक्त कविता लिखने में रुचि है । जीवन के हर पहलू पर लिखना पसंद है ।
Recommended for you