Skip to content

मित्रता

ईश्वर दयाल गोस्वामी

ईश्वर दयाल गोस्वामी

कविता

November 3, 2017

कभी-कभी,
ऐंसा लगता है;
फुदक-फुदक कर,
चहक-चहक कर,
उड़ जाऊँ,
गौरैया जैसा ।
गुनगुनाऊँ,
गीत गाऊँ,
आम्र की
शाखा पर बैठी
कोयल जैसा ।
थिरक-थिरक कर,
नाच उठूँ मै ;
मृदु-कानन में
नाचे हुए ,
मोर के जैसा ।
यह सब संभव
हो जाता है ,
दुख भी सारा ,
खो जाता है ;
यदि आपके
पीछे कोई
संबल देता
मित्र आपका ।
तो,लगता है ऐंसे
जैसे उग आए
हों,पंख पींठ में ,
अब तो बस
उड़ना-उड़ना है ।
पवनाँजलियों से
निशिदिन ही,
ताज़े ग़ुलाबों
की गंध पीना है ।
छोड़-छाड़ कर
फ़िक्र पुरानी
दिन आज का
ही जीना है ।

Author
ईश्वर दयाल गोस्वामी
-ईश्वर दयाल गोस्वामी कवि एवं शिक्षक , भागवत कथा वाचक जन्म-तिथि - 05 - 02 - 1971 जन्म-स्थान - रहली स्थायी पता- ग्राम पोस्ट-छिरारी,तहसील-. रहली जिला-सागर (मध्य-प्रदेश) पिन-कोड- 470-227 मोवा.नंबर-08463884927 हिन्दीबुंदेली मे गत 25वर्ष से काव्य रचना । कविताएँ समाचार... Read more
Recommended Posts
रिश्ता
अजीब है ये रिश्तो की पहेली अगर समझ आ जाएं तो ज़िंदगी सवर जाती है नही तो खुशियां बिखर जाती हैं कोई हमनवां की तरह... Read more
कभी भला तो कभी बुरा लगता है
कभी भला तो कभी बुरा लगता है वो सारी दुनिया से जुदा लगता है मुद्दत हुई उसका फोन आया न कोई खत आया मेरा महबूब... Read more
कभी कोई कभी कोई
जलाता है बुझाता है कभी कोई कभी कोई। मेरी हस्ती मिटाता है कभी कोई कभी कोई।।1 बुरा चाहा नहीं मैनें जहाँ में तो किसी का... Read more
मुक्तक
कभी कभी मैं खुद से पराया हो जाता हूँ! दर्द की दीवार का एक साया हो जाता हूँ! जब बेखुदी के दौर से घिर जाता... Read more