Skip to content

मिड -डे मील —— कविता

निर्मला कपिला

निर्मला कपिला

कविता

July 28, 2016

मिड -डे मील

पुराने फटे से टाट पर

स्कूल के पेड के नीचे

बैठे हैं कुछ गरीब बस्ती के बच्चे

कपडों के नाम पर पहने हैं

बनियान और मैली सी चड्डी

उनकी आँखों मे देखे हैं कुछ ख्वाब

कलम को पँख लगा उडने के भाव

उतर आती है मेरी आँखों मे

एक बेबसी, एक पीडा

तोडना नही चाहती

उनका ये सपना

उन्हें बताऊँ कैसे

कलम को आजकल

पँख नही लगते

लगते हैँ सिर्फ पैसे

कहाँ से लायेंगे

कैसे पढ पायेंगे

उनके हिस्से तो आयेंगी

बस मिड -डे मील की कुछ रोटियाँ

नेता खेल रहे हैं अपनी गोटियाँ

इस रोटी को खाते खाते

वो पाल लेगा अंतहीन सपने

जो कभी ना होंगे उनके अपने

फिर वो तो सारी उम्र

अनुदान की रोटी ही चाहेगा

और इस लिये नेताओं की झोली उठायेगा

काश! कि इस

देश मे हो कोई सरकार

जिसे देश के भविष्य से हो सरोकार

Share this:
Author
निर्मला कपिला
लेखन विधायें- कहानी, कविता, गज़ल, नज़्म हाईकु दोहा, लघुकथा आदि | प्रकाशन- कहानी संग्रह [वीरबहुटी], [प्रेम सेतु], काव्य संग्रह [सुबह से पहले ], शब्द माधुरी मे प्रकाशन, हाईकु संग्रह- चंदनमन मे प्रकाशित हाईकु, प्रेम सन्देश मे 5 कवितायें | प्रसारण... Read more
Recommended for you