Skip to content

मिट्टी मेरी पहचान

Vindhya Prakash Mishra

Vindhya Prakash Mishra

कविता

August 12, 2017

मिट्टी का बना खिलौना
मिट्टी मे हंसना रोना
मिट्टी ही चांदी सोना
मिट्टी ही रहा बिछौना
मिट्टी खाकर बचपन मे
बन रहा धूसर से सलोना।
मिट्टी मेरी रग रग मे
मिट्टी मेरी खून पसीना
मिट्टी मेरी पहचान
मिट्टी मे मरना जीना।
मिट्टी पावन मां सी
मिट्टी मे कुर्बान ही होना
मिट्टी बना शरीर सभी की
मिट्टी मे ही मिल जाना।

Author
Vindhya Prakash Mishra
Vindhya Prakash Mishra Teacher at Saryu indra mahavidyalaya Sangramgarh pratapgarh up Mo 9198989831 कवि, अध्यापक
Recommended Posts
निकलता है
सुन, हृदय हुआ जाता है मृत्यु शैय्या, नित स्वप्न का दम निकलता है। रोज़ ही मरते जाते हैं मेरे एहसास, अश्क बनकर के ग़म निकलता... Read more
अभी पूरा आसमान बाकी है...
अभी पूरा आसमान बाकी है असफलताओ से डरो नही निराश मन को करो नही बस करते जाओ मेहनत क्योकि तेरी पहचान बाकी है हौसले की... Read more
आहिस्ता आहिस्ता!
वो कड़कती धूप, वो घना कोहरा, वो घनघोर बारिश, और आयी बसंत बहार जिंदगी के सारे ऋतू तेरे अहसासात को समेटे तुझे पहलुओं में लपेटे... Read more
दूरी बनाम दायरे
दूरी बनाम दायरे सुन, इस कदर इक दूजे से,दूर हम होते चले गए। न मंजिलें मिली हमको, रास्ते भी खोते चले गए। न मैं कुछ... Read more