मान है बेटी सम्मान है बेटी

मान है बेटी सम्मान है बेटी
घर के आंगन में मुस्कान है बेटी
माता पिता की पहचान है बेटी
एक नही दो घरों का ईमान है बेटी

कई रिश्तों का नाम है बेटी
भाई की सुनी कलाई में राखी का नाम है बेटी
बुढापे में माता पिता का सहारा है बेटी
संस्कारों की पूँजी है बेटी
वंश का अस्तित्व है बेटी

भूपेंद्र रावत
17/11/2017

1 Like · 2 Comments · 359 Views
M.a, B.ed शौकीन- लिखना, पढ़ना हर्फ़ों से खेलने की आदत हो गयी है पन्नो को...
You may also like: