.
Skip to content

मानसून

arti lohani

arti lohani

हाइकु

July 8, 2017

आयी बरसा।
उदास किसान का ।
मन हरषा ।।

आग का गोला ।
देता है ये जीवन ।
दहके शोला ।।

कुछ हो कम।
सूरज की तपन ।
धरा हो नम ।।

बढ़ती गर्मी ।
कैसी सूरज की है ।
ये हठधर्मी ।।

चढ़ा है पारा ।
जून की तपन का ।
कोई न चारा ।।

आरती लोहनी

Author
arti lohani
Recommended Posts
सूरज काका
सुबह सवेरे सूरज काका नित मुस्काते तुम आते हो अपनी सोने की किरणों को संग सदा ही ले आते हो । घड़ी भर भी विलंब... Read more
*** मत पूछ ***
मत पूछ मुझे महोबत ने क्या क्या दिया बहुत से जख्म दिए कुछ और बाकी है ।। . ?मधुप बैरागी मत डूबो इतना कल्पनाओं में... Read more
दिल क्यूं तुझ पर मरता है..
भरे हैं आंख में आंसू फिर भी मुस्कुरा लेते हैं इनमे कुछ राज है जो अक्सर छुपा लेते हैं जुंबा खामोश रहती है बातें रोज... Read more
तपते सूरज को नमस्कार ना कर.......
तपते सूरज को नमस्कार ना कर जो मासूम हो उसका त्रिस्कार ना कर सब को दिल में बसना ,लेकिन जो सुन ना पाए सच्चाई उसे... Read more