मानव आज कितना सिमट गया है ---आर के रस्तोगी

मानव आज कितना सिमट गया है |
केवल वह मोबाइल से चिपट गया है ||
उसे फुर्सत नहीं है किसी से मिलने की |
उसे फुर्सत नहीं है किसी को सुनने की ||
वह तो अपने आप में कही खो गया है |
मानव आज कितना सिमट गया है ||

न रही फुर्सत उसे अपने खाने पीने की |
न रही फुर्सत उसे अपने मरने जीने की ||
वह तो अब होटलों में खाने पीने लगा है |
वह तो अस्पतालों में मरने जीने लगा है ||
हर चीज को पाने में आप में खो गया है |
मानव आज कितना सिमट गया है ||

खुशियों को पाने के लिये दुखो में खो गया है |
उजाले को पाने के लिये अंधेरो में खो गया है ||
निमंत्रण पत्र भी व्हाट्सएप्प पर आने लगे है |
इनके गिफ्ट भी व्हाट्सएप्प पर जाने लगी है ||
जीवन का दौर खतरनाक मोड़ पर आ गया है |
मानव आज कितना सिमट गया है ||

कहने को संसार मोबाइल में सिमट गया है |
पर मोबाइल भी हर पाकिट में चिपट गया है ||
सुबह शाम की नमस्ते मोबाइल पर होने लगी है |
जन्म दिवस की बधाई मोबाइल पर होने लगी है ||
अब तो केक भी मोबाइल पर कट कर आ गया है |
मानव आज कितना सिमट गया है ||

आर के रस्तोगी
मो 9971006425

Sahityapedia Publishing
Like 1 Comment 1
Views 3

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share

Do you want to publish your book?

Sahityapedia's Book Publishing Package only in ₹ 9,990/-

  • Premium Quality
  • 50 Author copies
  • Sale on Amazon, Flipkart etc.
  • Monthly royalty payments

Click this link to know more- https://publish.sahityapedia.com/pricing

Whatsapp or call us at 9618066119
(Monday to Saturday, 9 AM to 9 PM)

*This is a limited time offer. GST extra.