.
Skip to content

मानवता सिखला गए (दोहे)

RAMESH SHARMA

RAMESH SHARMA

दोहे

December 28, 2016

मानवता सिखला गए, दे दी हंसकर जान !
ईसा को इस त्याग ने, बना दिया भगवान् !!

पनपा है जब जब कहीं, नफरत का बाज़ार !
ईसा ने तब तब लिया, .धरती पर अवतार !!

मानवता कायम रहे , हर दिल रहे करीब !
यही सोचकर चढ गये,.ईसा तुरत सलीब!!

मानवता जिंदा रहे,…कायम हो ईमान!
हर युग मे ईसा हुए,इसी तरह कुरबान!!
रमेश शर्मा

Author
RAMESH SHARMA
अपने जीवन काल में, करो काम ये नेक ! जन्मदिवस पर स्वयं के,वृक्ष लगाओ एक !! रमेश शर्मा
Recommended Posts
मानवता नीचे दबी
नही बढेगा शर्तियां,वहां अधिक फिर क्लेश ! झगडा घरका रह गया,घर मे जहाँ"रमेश" !! मानवता नीचे दबी,...ऊँचे बने मकान! दफन नींव में हो रहे,शहरी सीना... Read more
वो तीन दोहे।
वो तीन दोहे-- रहे सजगता कर्म में ,,,,,भाव रहे निष्काम ।। रिस्तो में खुशियाँ रहे, जीवन के आयाम ।। लोभ क्षोभ मद मोह को,,, करने... Read more
हक़
?? हक़ ?? ?????????? हक़ मांगने गए तो बड़े शोर हो गए। इल्ज़ाम ये लगा कि मुंह जोर हो गए। क़ायम रहा ईमान उनका देश... Read more
दिए के उजाले तो तमाम से हो गए...
दिए के उजाले तो तमाम से हो गए दिल के अँधेरे तो आम से हो गए तरक्की हुई ज़माने की और हर सख्स वक्त के... Read more