Skip to content

मात नमामि रेवा मैया, जग जननी कहलावत है

कृष्णकांत गुर्जर

कृष्णकांत गुर्जर

गीत

February 3, 2017

मात नमामि रेवा मैया,
जग जननी कहलावत है|
माँ के चरणो मे हम बालक,
नित नित शीश झुकावत है

अमरकंट से निकले मैया,
सागर जान समावत है|
कल कल बहती जाती,
हम है दीप जलावत है||

भक्त हजारो आये पुकारू,
मैया गले लगावत है|
नरियल फूल कपूर की वाती,
देखो भक्त चढ़ावत है||

शिव शंकर ब्रम्हा विष्णु भी,
जिनको शीश झुकावत है|
गंगा यमुना मात नर्मदे,
जग जननी कहलावत है||

माँ की महिमा कोई न जाने,
माँ तो माँ कहलावत है|
कोढ़ी पापी लगड़ा लूला,
माँ के दरपे आवत है||

कष्टो को हर लेती मैया,
खुशी खुशी घर जावत है|
मात नमामि कष्ट विनाशक,
जग जननी कहलावत है

Share this:
Author
कृष्णकांत गुर्जर
संप्रति - शिक्षक संचालक G.v.n.school dungriya G.v.n.school Detpone मुकाम-धनोरा487661 तह़- गाडरवारा जिला-नरसिहपुर (म.प्र.) मो.7805060303

क्या आप अपनी पुस्तक प्रकाशित करवाना चाहते हैं?

साहित्यपीडिया पब्लिशिंग से अपनी पुस्तक प्रकाशित करवायें और आपकी पुस्तक उपलब्ध होगी पूरे विश्व में Amazon, Flipkart जैसी सभी बड़ी वेबसाइट्स पर

साहित्यपीडिया की वेबसाइट पर आपकी पुस्तक का प्रमोशन और साथ ही 70% रॉयल्टी भी

साल का अंतिम बम्पर ऑफर- 31 दिसम्बर , 2017 से पहले अपनी पुस्तक का आर्डर बुक करें और पायें पूरे 8,000 रूपए का डिस्काउंट सिल्वर प्लान पर

जल्दी करें, यह ऑफर इस अवधि में प्राप्त हुए पहले 10 ऑर्डर्स के लिए ही है| आप अभी आर्डर बुक करके अपनी पांडुलिपि बाद में भी भेज सकते हैं|

हमारी आधुनिक तकनीक की मदद से आप अपने मोबाइल से ही आसानी से अपनी पांडुलिपि हमें भेज सकते हैं| कोई लैपटॉप या कंप्यूटर खोलने की ज़रूरत ही नहीं|

अधिक जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करें- Click Here

या हमें इस नंबर पर कॉल या WhatsApp करें- 9618066119

Recommended for you