23.7k Members 49.9k Posts

मात्र त्योहारों की औपचारिकता

तयौहार मनाने की रह गई है केवल औपचारिकता,समाप्त हो रही है इंसानों के दिलों से आत्मीयता है इंसान
औपचााारिकता निभाते हुए असली नाते मत भूल जानाा , किसी का अहसान मत भूल जाना , इतने भी उपर मत उठना कि स्वयम कि पहचान ही भूल जाए ये मत भूल कि भूमि पर कितने खरे सभी कार्य भूमि में ही समाहित हो जाने हैं तब न मैं बचता है न अहंकार बचता है रह जाता है मात्र नश्वर शरीर अच्छा कार्य ही हमेशा याद रहता है फिर अहनकार कयो ?

Like 4 Comment 0
Views 7

You must be logged in to post comments.

LoginCreate Account

Loading comments
Aarti Ayachit
Aarti Ayachit
भोपाल
307 Posts · 3.7k Views
मुझे लेख, कविता एवं कहानी लिखने और साथ ही पढ़ने का बहुत शौक है ।...