.
Skip to content

मातृ दिवस पर दोहे

RAMESH SHARMA

RAMESH SHARMA

दोहे

May 15, 2017

माँ के दिल को पढ लिया,जिसने भी इंसान !
नही जरूरी बाँचना,…गीता और कुरान !!

गुस्से मे भी जब नही,मुझको कहा खराब !
माँकी ममता का तुम्हे,क्या दूँ और हिसाब !!

मेरे अपने आप ही,. बन जाते हैं काम !
माँ के आशीर्वाद का, देख लिय परिणाम !!

माँ से बढ़कर कब हुआ, कोई और मुकाम !
चाहे आवें साथ मे, मिल कर देव तमाम !!

वो चूल्हे की रोटियाँ,…वो अरहर की दाल!
जीवन मे इनका पडा,माँ के बिना अकाल! !

होता है इस भाँति कुछ,माँ का आशीर्वाद!
जैसे माली पेड को,.देता है जल खाद !!

पोंछा था जिनसे कभी,.बचपन मे मुंह गाल !
माँ की पेटी से मिले, ..सारे वही रुमाल !!

ख़त्म रसोई में हुआ , खाना जितनी बार !
माँ ने फांका कर लिया, झूठी मार डकार !!

इसे करिश्मा ही समझ ,कुदरत का इंसान !
माँ को बच्चा गंध से, . .लेता है पहचान !!
रमेश शर्मा.

Author
RAMESH SHARMA
अपने जीवन काल में, करो काम ये नेक ! जन्मदिवस पर स्वयं के,वृक्ष लगाओ एक !! रमेश शर्मा
Recommended Posts
माँ ......
माँ... माँ जीवन का आगाज़ है, माँ एक जीने का अंदाज़ है| माँ... माँ अपनेपन की आवाज़ है, माँ आनंद की आभास है| माँ... माँ... Read more
कुछ दोहे (माँ)
प्यार लिखा हर पृष्ठ पर ,माँ वो खुली किताब माँ के आँचल की महक, जैसे खिला गुलाब माँ तो ममता का कभी ,रखती नहीं हिसाब... Read more
माँ
माँ तो माँ ही होती है जब भी देखो अपने बच्चों की चिंता में होती है सोए हुए बच्चे होते है वो नींदे अपनी खोयी... Read more
माँ के लिए क्या लिखुँ?
माँ के लिए क्या लिखुँ ? माँ ने खुद मुझे लिखा है, माँ का आँचल माँ की ममता मेरा यही संसार हैं, शिव पुत्र की... Read more