23.7k Members 49.9k Posts

माता की महिमा

एक हाड़-मांस की पुतली का , माता जिस दिन से नाम पड़ा
खुद ब्रह्म अवतरित होने को , द्वारे उसके कर बाँध खड़ा

राघव माधव मानव दानव , सबको धरती पे लाती माँ
निर्गुण जो सृष्टि चलाता है , उसको चलना सिखलाती माँ

खुदको विजयी करने हेतु , माता से सब बल पाते हैं
माता के चरणों में चौदह , भुवनों का वास बताते हैं

बाकी सब रिश्ता तो सबसे , जन्म बाद बन पाता है
अपितु माता संतान का नाता , सबमें नौ महीने ज़्यादा है

“शैलेश” तू मूरख शब्दों में , माता की महिमा गाएगा ???
जिस जननी का तुझपे ऋण है , तू उसका मोल चुकाएगा ???

Like 4 Comment 7
Views 18

You must be logged in to post comments.

LoginCreate Account

Loading comments
SHAILESH MOHAN
SHAILESH MOHAN
1 Post · 18 View