Aug 17, 2016 · कविता

माज़ी

याद माज़ी की जब भी आती है.,
पूछ मत किस क़दर रुलाती है.!
यूँ समझ ले कि ज़िन्दगी उस दम.,
ग़म के दरिया में डूब जाती है..!!

( ख़ुमार देहल्वी )

1 Like · 10 Views
A Urdu Poet
You may also like: