23.7k Members 50k Posts
Coming Soon: साहित्यपीडिया काव्य प्रतियोगिता

मां

Nov 26, 2018

वो उँगली पकड़ कर के चलना सिखाती
अगर नींद आये न पलना झुलाती

मुझे डांटती और फिर प्यार देती
बुरी आदतों से वो मुझको बचाती

जमाने के सारे गुणों दुर्गुणो को
बड़े चान्व से ही वो मुझको बताती

कहीं गिर न जाए मेरा लाल फिर से
तभी सद्गुणों की सडक वो बनाती

तू ही मेरा छैया तू ही है कन्हैया
मुझे ऐसी प्यारी सी लोरी सुनाती

कभी खेलकर जब भी वापस मैं आता
बड़े प्यार से मुझको गोदी उठाती

उदासी में आशा की किरणें सी है वो
सभी दुख भुला कर के मुझको हंसाती

ओम नारायण कर्णधार
हमीरपुर उत्तर प्रदेश
7490877265

This is a competition entry.
Votes received: 26
Voting for this competition is over.
8 Likes · 43 Comments · 106 Views
Omnarayan
Omnarayan
3 Posts · 140 Views
You may also like: