कविता · Reading time: 1 minute

मां

सबसे खूबसूरत,
सबसे हसीन,
सबसे नायाब,
सबसे बेहतरीन,
तोहफ़ा है मां!

इस जहां से,
जमीं-आसमां से,
खूबसूरत शमां से,
आला व अव्वल,
ओहदा है मां!

न मलाल रहे,
यह ख्याल रहे,
खुश न रहोगे कभी,
गर तुमसे,
खफ़ा है मां!

मेराज रज़ा
समस्तीपुर, बिहार

Competition entry: "माँ" - काव्य प्रतियोगिता
14 Likes · 90 Comments · 360 Views
Like
You may also like:
Loading...