मां

सबसे खूबसूरत,
सबसे हसीन,
सबसे नायाब,
सबसे बेहतरीन,
तोहफ़ा है मां!

इस जहां से,
जमीं-आसमां से,
खूबसूरत शमां से,
आला व अव्वल,
ओहदा है मां!

न मलाल रहे,
यह ख्याल रहे,
खुश न रहोगे कभी,
गर तुमसे,
खफ़ा है मां!

मेराज रज़ा
समस्तीपुर, बिहार

This is a competition entry

Competition Name: साहित्यपीडिया काव्य प्रतियोगिता- "माँ"

Voting is over for this competition.

Votes received: 72

Like 14 Comment 90
Views 288

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share