मां... रब का स्वरूप निरा

माँ..सुना है मैंने,तुम्हारी आँखें हुई थीं नम,
जब देखा था तुमने, मुझको पहली बार l
सब कहते हैं..एक प्यारी-सी,
अद्वितीय मुस्कान थी, होंठों पर तुम्हारे;
जब लिया तुमने मुझको,गोद में पहली बार l

यूँ तो जग में आने से पहले भी,
बातें अक्सर करते थे हम,
पर दिखता न था रुप तेरा;
तेरी बाहों में आकर जाना,
है रब का तू स्वरूप निरा l

कितनी अंजानी थी,कितनी दीवानी थी..
अब सोचकर भी हंसी आती है ;
कोई बोल दे हंसी में भी अगर.
“तुम्हारी नहीं मेरी माँ है “
कैसे आँख मेरी भर आती थी l

यूँ दूर कहाँ है मुझसे तू ,
जब भी परेशान मुझे पाती हो..
ख़्वाबों में आकर मेरे माँ,
तुम आँसू पोंछ जाती हो,
मेरे आँसू पोंछ जाती होl

कुलदीप कौर,
पंजाब

This is a competition entry

Competition Name: साहित्यपीडिया काव्य प्रतियोगिता- "माँ"

Voting is over for this competition.

Votes received: 499

क्या आप अपनी पुस्तक प्रकाशित करवाना चाहते हैं?

साहित्यपीडिया पब्लिशिंग द्वारा अपनी पुस्तक प्रकाशित करवायें सिर्फ ₹ 11,800/- रुपये में, जिसमें शामिल है-

  • 50 लेखक प्रतियाँ
  • बेहतरीन कवर डिज़ाइन
  • उच्च गुणवत्ता की प्रिंटिंग
  • Amazon, Flipkart पर पुस्तक की पूरे भारत में असीमित उपलब्धता
  • कम मूल्य पर लेखक प्रतियाँ मंगवाने की lifetime सुविधा
  • रॉयल्टी का मासिक भुगतान

अधिक जानकारी के लिए इस लिंक पर क्लिक करें- https://publish.sahityapedia.com/pricing

या हमें इस नंबर पर काल या Whatsapp करें- 9618066119

Like 72 Comment 194
Views 2.6k

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share