23.7k Members 50k Posts
Coming Soon: साहित्यपीडिया काव्य प्रतियोगिता

मां तपस्विनी

———————————————
‘मां तपस्विनी’
———————————————–
है कहां?
वो घर तपोवन?
सिकुड़ गया,
घर का आंगन।
कहीं किसी कोने में,
तपस्विनी सी बैठी है;
थकी मांदी
नैनन मे नींद भरी है,
चूल्हा,चौका, बुहार,
बैठी छुटकु की
बाट निहार,
कब आएगा?
तब खायेगा,
दिन-प्रतिदिन /का किस्सा है।
भूखी रह खुद
सब सह जाती
दुख कोअपने,
कहां बथाती?
सबकी प्यारी मां।
है कहां?
वो घर तपोवन
जहां बैठी है!
मां तपस्विनी!
———————————
राजेश’ललित’शर्मा
————————————

This is a competition entry.
Votes received: 17
Voting for this competition is over.
4 Likes · 20 Comments · 33 Views
राजेश शर्मा
राजेश शर्मा
New Delhi
80 Posts · 2k Views
मैंने हिंदी को अपनी माँ की वजह से अपनाया,वह हिंदी अध्यापिका थीं।हिंदी साहित्य के प्रति...
You may also like: