कविता · Reading time: 1 minute

मां कालरात्रि

मां कालरात्रि करुणा बरसाओ
सारे अनिष्ट शमन कर जाओ
बढ़ रही हैं वृत्तियां आसुरी
मां जगदंबे दमन कर जाओ
मां भक्तों को भयमुक्त करो
संसार को निर्भय कर जाओ
छाया आतंक का घना अंधेरा
प्रेम प्रकाश फैला जाओ
हे शुभंकरी शुभ फल देने वाली
जन जन के मां कष्ट हरो
कोई ना आतंकित हो जग में
अन्याय आतंक दूर करो
दूर करो ग्रह बाधाएं मां
अंधकार हर जाओ
जन-जन को मां अभय करो
सुकृत धरा पर फैलाओ
मां कालरात्रि आ जाओ
जन-जन पर करुणा बरसाओ
जय माता दी
सुरेश कुमार चतुर्वेदी

3 Likes · 2 Comments · 53 Views
Like
You may also like:
Loading...