मुक्तक · Reading time: 1 minute

मांसाहार क्यों?

ना तो होली से
दिक्कत है
ना ही परेशानी
ईद से है!
तकलीफ़ हमें तो
जानवरों के
काटे जाने की
ज़िद्द से है!
Shekhar Chandra Mitra
#बलिप्रथा #Kurbani

2 Likes · 2 Comments · 22 Views
Like
579 Posts · 7.8k Views
You may also like:
Loading...