.
Skip to content

मांझी

डी. के. निवातिया

डी. के. निवातिया

अन्य

February 20, 2017

लड़ाई गर मुद्दे पर हो तो लड़ने में मजा आता है
उलझकर उलझनों में जीने का आनद आता है
चिकनी सडको पर रफ़्तार आजमा लेते है सभी
तूफानी लहरो में कश्ती संभाले मांझी कहाता है !!
!
!
!
डी. के. निवातिया

Author
डी. के. निवातिया
नाम: डी. के. निवातिया पिता का नाम : श्री जयप्रकाश जन्म स्थान : मेरठ , उत्तर प्रदेश (भारत) शिक्षा: एम. ए., बी.एड. रूचि :- लेखन एव पाठन कार्य समस्त कवियों, लेखको एवं पाठको के द्वारा प्राप्त टिप्पणी एव सुझावों का... Read more
Recommended Posts
मैं कभी चाँद पर नहीं आता
दिल पे कोई असर नहीं आता याद तू इस क़दर नहीं आता रात आती है दिन भी आता है कोई अपना मगर नहीं आता चाँद... Read more
आज भी जुबाँ से उसका नाम आता है ....
आज भी जुबा से उसका नाम आता है उसे अहसास नहीं सुबह से शाम आता है कहता हु भुला दिया लेकिन हर जिक्र में उसका... Read more
बाख़ूबी खुद को समझाना आता है.................
बाख़ूबी खुद को समझाना आता है दर्दों से भी दिल बहलाना आता है ख्वाबों की तितली दौड़ाना आता है बच्चों को बातें मनवाना आता है... Read more
वो दर ओ बाम क्यूँ नहीं आता,,
इक दिया आम क्यूँ नहीं आता, वो दर ओ बाम क्यूँ नहीं आता,, एक ही शख़्स क्यूँ ज़बाँ पर है, दूसरा नाम क्यूँ नहीं आता,,... Read more