माँ

माँ
माँ का नाम स्मरण ही , दुःखों का निवारण हैं ।
माँ का आशीर्वाद ही , सभी सुख-समृद्धि वरण हैं।।
माँ का आँचल ही जन्नत है ।
माँ की ममता ही प्रेम-करुणा की मुरत हैं ।
माँ का स्वरुप ही ब्रह्मण्ड हैं ।
माँ का अस्तित्व ही अखण्ड हैं ।।
इसलिए –
माँ का ना करो अनादर ,
माँ की आवाज़ आते ही दौड़े चले जाहिऐ।
माँ को कुछ नही चाहिऐ ,
बस एक आपकी नजदीक की झलक चाहिऐ ।।
सारा जग सुख-दुःख में उलझा हुआ हैं ।
अपने कर्तव्य में दौड़ कर सुलझा रहा हैं ।।
बस थोड़ा समय चुराकर दो मिठे बोल बोलना है ।
बस थोड़ा समय चुराकर दो मिठे बोल बोलना है ।।
कापीराइट –
– राजू गजभिये
बदनावर जिला धार ( मध्यप्रदेश )
पिन – 454 660
प्रमाणित किया जाता है की माँ कविता
स्वरचित हैं ।
– राजू गजभिये
बदनावर जिला धार ( मध्यप्रदेश )

This is a competition entry

Competition Name: साहित्यपीडिया काव्य प्रतियोगिता- "माँ"

Voting is over for this competition.

Votes received: 27

Do you want to publish your book?

Sahityapedia's Book Publishing Package only in ₹ 9,990/-

  • Premium Quality
  • 50 Author copies
  • Sale on Amazon, Flipkart etc.
  • Monthly royalty payments

Click this link to know more- https://publish.sahityapedia.com/pricing

Whatsapp or call us at 9618066119
(Monday to Saturday, 9 AM to 9 PM)

*This is a limited time offer. GST extra.

Like 5 Comment 23
Views 170

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share
Sahityapedia Publishing