Nov 1, 2018 · कविता

माँ

अदृश्य- सी वह शक्ति, जो सदैव मेरे साथ है!

पता है मुझे माँ, कि वह तेरा ही आशीर्वाद है!

तेरा प्यार,तेरी ममता, तेरा स्नेह माँ निर्विवाद है!

तू मेरी संगी,मेरी साथी ,मेरी ईश्वर प्रदत्त मुराद है!

तू मेरा बल, संबल, मेरे जीवन का आल्हाद है!

तू गीत है, संगीत है , मेरे जीवन का नाद है!

मेरा घर, परिवार, मेरा संसार तुझसे आबाद है!

तू पूजा ,अराधना, तू ईश्वर से साधा मेरा संवाद है!

माँ, तू है तो जीवन में खुशी है, हर्ष है,उन्माद है!

तू मेरे चेतन, अचेतन, मेरे अस्तित्व की बुनियाद है!

सुधा सिंह,
कोपरखैराने, नवी मुंबई 400709

Voting for this competition is over.
Votes received: 124
16 Likes · 64 Comments · 864 Views
संप्रति - हाई स्कूल शिक्षिका वाशी, नवी मुंबई
You may also like: