.
Skip to content

माँ

सन्दीप कुमार 'भारतीय'

सन्दीप कुमार 'भारतीय'

कविता

July 26, 2016

“माँ”

एहसास मेरा पाकर अपने भीतर
ख़ुशी से फूली न समायी
वो मेरी माँ है

आहट सुनकर मेरे आने की
थाम ली उसने सलाई
और बुनने लगी
नन्हे नन्हे दस्ताने
छोटे छोटे मोज़े
नन्ही से टोपियाँ
पिद्दी से स्वेटर

जैसे जैसे पास आया
मेरे जन्म का समय
ले कर बैठ गयी वो
अपनी सिलाई मशीन
लगी सिलने झगोले

कहाँ होते थे उस वक़्त
ये हगीज और ममी पोको पैन्ट्स
ढूंढ लिए सारे सूती कपडे घर के
और बना दिए मेरे डायपर

गर्मी हो रही है पापा परेशान हैं
उनकी सूती कमीज गायब है
माँ उनको दिखा रही है
मेरे झगोले और डायपर

समझ गए पापा भी
और मुस्कुराकर रह गए

जब जन्म पाया मैंने
बड़े जतन से माँ ने सम्हाला
कितनी ही बार बलैयाँ उतारी
सबकी बुरी नजरों से बचाकर
अपने आँचल में छुपाया

कितना सहेज कर रखा मुझे
कहीं खरोच न आ जाए मुझे
अपना वात्सल्य लुटाया
खुद गीले में सोकर
मुझे सूखे में सुलाया

हर मनुष्य पर कर्ज है
माँ के त्याग का
माँ की तपस्या का
माँ के वात्सल्य का

माँ मेरा प्रणाम है
तेरे हर बलिदान को
तेरे वात्सल्य को

बस यही दुआ है मेरी
सबके ऊपर बना रहे
साया माँ का |

“सन्दीप कुमार”

Author
सन्दीप कुमार 'भारतीय'
3 साझा पुस्तकें प्रकाशित हुई हैं | दो हाइकू पुस्तक है "साझा नभ का कोना" तथा "साझा संग्रह - शत हाइकुकार - साल शताब्दी" तीसरी पुस्तक तांका सदोका आधारित है "कलरव" | समय समय पर पत्रिकाओं में रचनायें प्रकाशित होती... Read more
Recommended Posts
मेरी नानी माँ
?????? माँ तो प्यारी है मुझको पर माँ से प्यारी नानी माँ माँ ने मुझको जन्म दिया पर पाली - पोसी नानी माँ। ? भर... Read more
बड़ा मुख़्तसर स शब्द है "माँ", जो गहराइयो मे उतरा तो आँखे खुल गई! दर-बदर भटका मैं जिसे पाने को, वो जन्नत मेरे माँ के... Read more
माँ मेरी माँ
???? माँ मेरी माँ, मुझे छोड़ के मत जाओ कुछ दिन तो मेरे साथ बिताओ। माँ मैं तुम बिन अकेली हो जाती हूँ, जब तुम... Read more
माँ
आंचल तुम्हारा दरख्तों की छाया है माँ, हर धूप से टकराना तुमने सिखाया है माँ, तुम बेशक कहीं दूर सितारों में रहने लगी, मेरे सर... Read more